गुरु तेगबहादुर साहिब जी के शहीदी दिवस पर विशेष,जानिए उनके बारे में

गुरू तेग़ बहादुर (1 अप्रैल, 1621 – 24 नवम्बर, 1675) सिखों के नवें गुरु थे जिन्होने प्रथम गुरु नानक द्वारा बताए गये मार्ग का अनुसरण करते...

गुरू तेग़ बहादुर (1 अप्रैल, 1621 – 24 नवम्बर, 1675) सिखों के नवें गुरु थे जिन्होने प्रथम गुरु नानक द्वारा बताए गये मार्ग का अनुसरण करते रहे। उनके द्वारा रचित ११५ पद्य गुरु ग्रन्थ साहिब में सम्मिलित हैं। उन्होने काश्मीरी पण्डितों तथा अन्य हिन्दुओं को बलपूर्वक मुसलमान बनाने का विरोध किया। इस्लाम स्वीकार न करने के कारण 1675 में मुगल शासक औरंगजेब ने उन्हे इस्लाम कबूल करने को कहा कि पर गुरु साहब ने कहा सीस कटा सकते है केश नहीं। फिर उसने गुरुजी का सबके सामने उनका सिर कटवा दिया। गुरुद्वारा शीश गंज साहिब तथा गुरुद्वारा रकाब गंज साहिब उन स्थानों का स्मरण दिलाते हैं जहाँ गुरुजी की हत्या की गयी तथा जहाँ उनका अन्तिम संस्कार किया गया। विश्व इतिहास में धर्म एवं मानवीय मूल्यों, आदर्शों एवं सिद्धांत की रक्षा के लिए प्राणों की आहुति देने वालों में गुरु तेग़ बहादुर साहब का स्थान अद्वितीय है।

इस महावाक्य अनुसार गुरुजी का बलिदान न केवल धर्म पालन के लिए नहीं अपितु समस्त मानवीय सांस्कृतिक विरासत की खातिर बलिदान था। धर्म उनके लिए सांस्कृतिक मूल्यों और जीवन विधान का नाम था। इसलिए धर्म के सत्य शाश्वत मूल्यों के लिए उनका बलि चढ़ जाना वस्तुतः सांस्कृतिक विरासत और इच्छित जीवन विधान के पक्ष में एक परम साहसिक अभियान था।

आततायी शासक की धर्म विरोधी और वैचारिक स्वतंत्रता का दमन करने वाली नीतियों के विरुद्ध गुरु तेग़ बहादुरजी का बलिदान एक अभूतपूर्व ऐतिहासिक घटना थी। यह गुरुजी के निर्भय आचरण, धार्मिक अडिगता और नैतिक उदारता का उच्चतम उदाहरण था। गुरुजी मानवीय धर्म एवं वैचारिक स्वतंत्रता के लिए अपनी महान शहादत देने वाले एक क्रांतिकारी युग पुरुष थे।

11 नवंबर, 1675 ई को दिल्ली के चांदनी चौक में काज़ी ने फ़तवा पढ़ा और जल्लाद जलालदीन ने तलवार करके गुरू साहिब का शीश धड़ से अलग कर दिया। किन्तु गुरु तेग़ बहादुर ने अपने मुंह से इसी' तक नहीं कहा। आपके अद्वितीय बलिदान के बारे में गुरु गोविन्द सिंह जी ने ‘बिचित्र नाटक में लिखा है-

तिलक जंञू राखा प्रभ ताका॥ कीनो बडो कलू महि साका॥
साधन हेति इती जिनि करी॥ सीसु दीया परु सी न उचरी॥
धरम हेत साका जिनि कीआ॥ सीसु दीआ परु सिररु न दीआ॥ (दशम ग्रंथ)

गुरु जी द्वारा धर्म प्रचार-
गुरुजी ने धर्म के सत्य ज्ञान के प्रचार-प्रसार एवं लोक कल्याणकारी कार्य के लिए कई स्थानों का भ्रमण किया। आनंदपुर से कीरतपुर, रोपड, सैफाबाद के लोगों को संयम तथा सहज मार्ग का पाठ पढ़ाते हुए वे खिआला (खदल) पहुँचे। यहाँ से गुरुजी धर्म के सत्य मार्ग पर चलने का उपदेश देते हुए दमदमा साहब से होते हुए कुरुक्षेत्र पहुँचे। कुरुक्षेत्र से यमुना किनारे होते हुए कड़ामानकपुर पहुँचे और यहाँ साधु भाई मलूकदास का उद्धार किया।

यहाँ से गुरुजी प्रयाग, बनारस, पटना, असम आदि क्षेत्रों में गए, जहाँ उन्होंने लोगों के आध्यात्मिक, सामाजिक, आर्थिक, उन्नयन के लिए कई रचनात्मक कार्य किए। आध्यात्मिक स्तर पर धर्म का सच्चा ज्ञान बाँटा। सामाजिक स्तर पर चली आ रही रूढ़ियों, अंधविश्वासों की कटु आलोचना कर नए सहज जनकल्याणकारी आदर्श स्थापित किए। उन्होंने प्राणी सेवा एवं परोपकार के लिए कुएँ खुदवाना, धर्मशालाएँ बनवाना आदि लोक परोपकारी कार्य भी किए। इन्हीं यात्राओं के बीच 1666 में गुरुजी के यहाँ पटना साहब में पुत्र का जन्म हुआ, जो दसवें गुरु- गुरु गोबिन्दसिंहजी बने।

COMMENTS

Name

अनूपपुर,1,अरूणाचल प्रदेश,3,अलीराजपुर,1,अशोक नगर,2,असम,2,आगर,1,आंध्र प्रदेश,1,इंदौर,10,उज्जैन,1,उड़ीसा,2,उत्तर प्रदेश,10,उत्तरप्रदेश,1,उत्तराखंड,2,उमरिया,2,कटनी,1,कपूरथला,1,कर्नाटक,2,केरल,1,कोरोना न्यूज़,1,कोलकाता,1,कौंच,1,खंडवा,1,खरगोन,1,खान-पान,1,खेल,7,गाजियाबाद,1,गुजरात,2,गुना,8,गुरुग्राम,1,गैजेट,1,गोवा,1,ग्वालियर,21,चंडीगढ़,1,चेन्नई,1,छतरपुर,2,छतीसगढ,3,छिंदवाड़ा,1,जबलपुर,4,जम्मू कश्मीर,1,जम्मू-कश्मीर,6,जागरूकता अभियान,1,झाबुआ,1,झारखंड,2,झाँसी,1,टीकमगढ़,2,टेक्नोलॉजी,10,डबरा,2,डिंडोरी,1,तमिलनाडु,2,तेलंगाना,1,त्रिपुरा,1,दतिया,10,दमोह,1,देवास,1,देश,27,धर्म,23,धार,3,नई दिल्ली,23,नरवर,1,नरसिंहपुर,1,नागालैण्ड,1,नीमच,1,नौकरी,14,पंजाब,4,पन्ना,1,पश्चिम बंगाल,1,प्रतापगढ़,3,बजट अपडेट,8,बड़वानी,1,बालाघाट,1,बिलासपुर,1,बिहार,1,बुरहानपुर,1,बैतूल,1,बॉलीवुड,2,भारत,9,भिंड,1,भिण्ड,1,भिलाई,1,भोपाल,17,मऊ,1,मंडला,1,मणिपुर,1,मंदसौर,1,मध्य प्रदेश,27,मध्यप्रदेश,18,मनोरंजन,1,महाराष्ट्र,10,मिजोरम,1,मिलाजुला,1,मुम्बई,5,मुरैना,2,मेघालय,1,मौसम अपडेट,4,रतलाम,3,राजगढ़,1,राजनीति,4,राजस्थान,2,रायसेन,1,रीवा,2,लखनऊ,1,लालगंज,1,लेख,5,विदिशा,1,विदेश,4,शहडोल,1,शाजापुर,5,शिवपुरी,447,श्योपुर,7,सतना,1,सागर,1,सामान्य ज्ञान की बातें,2,सिक्किम,1,सिंगरौली,1,सिवनी,1,सीधी,2,सीहोर,1,हरदा,2,हरियाणा,6,हिमाचल प्रदेश,1,हैदराबाद,1,होशंगाबाद,1,
ltr
item
Kalam Tak - Sach Har Keemat Par: गुरु तेगबहादुर साहिब जी के शहीदी दिवस पर विशेष,जानिए उनके बारे में
गुरु तेगबहादुर साहिब जी के शहीदी दिवस पर विशेष,जानिए उनके बारे में
https://1.bp.blogspot.com/-d0u6U1ChLeU/XdpJGm29PEI/AAAAAAAAA0g/cqQ42wz_nNM7hkMb3QKr8-fBHjKXsk0FACLcBGAsYHQ/s320/EEryuf2UYAAo4G3.jpg
https://1.bp.blogspot.com/-d0u6U1ChLeU/XdpJGm29PEI/AAAAAAAAA0g/cqQ42wz_nNM7hkMb3QKr8-fBHjKXsk0FACLcBGAsYHQ/s72-c/EEryuf2UYAAo4G3.jpg
Kalam Tak - Sach Har Keemat Par
https://www.kalamtak.com/2019/11/blog-post_42.html
https://www.kalamtak.com/
https://www.kalamtak.com/
https://www.kalamtak.com/2019/11/blog-post_42.html
true
4605838333867640698
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share. STEP 2: Click the link you shared to unlock Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy